Monday, September 20, 2021
More
    Home Blog

    Winter Online Internship/Project Training

    0
    Winter Internship 2021
    Project Training

    Gyani Labs is a leading e-learning platform for engineering & diploma students. We provide a hybrid learning model with a synchronous & asynchronous mode of learning to all engineering & diploma students across the country.

    It gives me immense pleasure to introduce ourselves as one of the top leading and emerging Edutech platforms in India. We offer project based training, Internship programs for engineering and diploma students.

    Our aim is to provide quality education virtually and upskill the students so as to make them industry-ready. We offer internship programs which span over a period of two months & six months which include training under industry experts as well as industrial project experience.

    Engineering & Diploma Students could register for a one-day Free Workshop for registration click here Last date to apply – October 2,2021

    During the internship, you will learn PHP, WordPress & Digital Marketing
    a) HTML, CSS, JavaScript
    b) Website Creation(PHP & WordPress)
    c) Facebook Marketing & Ad
    d) Advanced Blogging
    e) Lead Generation
    f) Youtube Marketing
    g) Google Ads
    h) Search Engine Optimization & Social Media Optimization
    i) Content Creation
    j) Free Tools
    k) Interview Preparation
    l) Personality Development Program

    Don’t miss this opportunity as we will take you to the core of the subject and impart our knowledge with you.

    Engineering & Diploma Students could register for a one-day Free Workshop registration click here.Last date to apply – October 2,2021

    ONLINE SPOKEN ENGLISH CLASS

    0
    Online Spoken English
    Live interactive spoken english
    
    

    Registration Link: Click here

    Online Spoken English Free Workshop
    Date: Sunday, September 19, 2021
    Time: 10 AM to 12 PM
    Contact: 9667888079

    यह कोर्स आपको कैसे लाभ पहुंचाएगा
    a) लाइव ट्रेनिंग मोबाइल और कम्प्यूटर के जरिए कही जाने की जरुरत नही
    b) घर बैठ कर पढ़े चार महीने का अनोखा पाठयक्रम
    c) अपने करियर में धाराप्रवाह अंग्रेजी बोलें
    d) अंग्रेजी बोलने की सरल और व्यावहारिक तकनीक
    e) सामान्य उच्चारण गलतियों को ठीक करें और आत्मविश्वास से अंग्रेजी बोलें

    Top Java Interview Questions

    0
    Java Interview Questions
    Top Java Interview Questions

    a) What is JAVA?
    Answer: Java is a high-level programming language and is platform-independent. It is a collection of objects and was developed by Sun Microsystems. There are a lot of applications, websites, and games that are developed using Java.

    b) What are the features of JAVA?
    Answer: Features of Java are mentioned below:
    OOP concepts
    Object-oriented
    Inheritance
    Encapsulation
    Polymorphism
    Abstraction

    i) Platform independent: A single program works on different platforms without any modification.
    ii) High Performance: JIT (Just In Time compiler) enables high performance in Java. JIT converts the bytecode into machine language and then JVM starts the execution.
    iii) Multi-threaded: A flow of execution is known as a Thread. JVM creates a thread which is called the main thread. The user can create multiple threads by extending the thread class or by implementing the Runnable interface.

    c) What is a singleton class in Java and how can we make a class singleton?
    Answer: Singleton class is a class whose only one instance can be created at any given time, in one JVM. A class can be made singleton by making its constructor private.

    d) Why are pointers not used in Java?
    Answer: Java doesn’t use pointers because they are unsafe and increase the complexity of the program. Since Java is known for its simplicity of code, adding the concept of pointers will be contradicting. Moreover, since JVM is responsible for implicit memory allocation, thus in order to avoid direct access to memory by the user,  pointers are discouraged in Java.

    e) What is a JIT compiler in Java?
    Answer: JIT stands for Just-In-Time compiler in Java. It is a program that helps in converting the Java bytecode into instructions that are sent directly to the processor. By default, the JIT compiler is enabled in Java and is activated whenever a Java method is invoked. The JIT compiler then compiles the bytecode of the invoked method into native machine code, compiling it “just in time” to execute. Once the method has been compiled, the JVM summons the compiled code of that method directly rather than interpreting it. This is why it is often responsible for the performance optimization of Java applications at the run time.

    f) What is Object-Oriented Programming?
    Answer: Object-oriented programming or popularly known as OOPs is a programming model or approach where the programs are organized around objects rather than logic and functions. In other words, OOP mainly focuses on the objects that are required to be manipulated instead of logic. This approach is ideal for the program’s large and complex codes and needs to be actively updated or maintained.

    g)  What are the main concepts of OOPs in Java?
    Answer: Object-Oriented Programming or OOPs is a programming style that is associated with concepts like:
    a) Inheritance: Inheritance is a process where one class acquires the properties of another.
    b) Encapsulation: Encapsulation in Java is a mechanism of wrapping up the data and code together as a single unit.
    c) Abstraction: Abstraction is the methodology of hiding the implementation details from the user and only providing the functionality to the users.
    d) Polymorphism: Polymorphism is the ability of a variable, function or object to take multiple forms.

    j) What is the final keyword in Java?
    Answer: Final is a special keyword in Java that is used as a non-access modifier. A final variable can be used in different contexts such as:
    Final variable- When the final keyword is used with a variable then its value can’t be changed once assigned. In case the no value has been assigned to the final variable then using only the class constructor a value can be assigned to it.

    final method- When a method is declared final then it can’t be overridden by the inheriting class.

    Final class- When a class is declared as final in Java, it can’t be extended by any subclass but it can extend other class.

    i) Why are Java Strings immutable in nature?
    Answer: In Java, string objects are immutable in nature which simply means once the String object is created its state cannot be modified. Whenever you try to update the value of that object instead of updating the values of that particular object, Java creates a new string object. Java String objects are immutable as String objects are generally cached in the String pool. Since String literals are usually shared between multiple clients, action from one client might affect the rest. It enhances the security, caching, synchronization, and performance of the application. 

    CoWIN goes global: 100+ nations show interest

    0
    CoWIN goes global
    CoWIN goes global

    This is perhaps the first time any nation is making software developed by its public sector initiative open for the world. India is all set to develop a software platform for Covid19 vaccination drive, CoWIN, open-source for all countries to access, adapt and use.
    Speaking at the CoWin Global Conclave on Monday, Prime Minister Narendra Modi said, “Soon, CoWIN will be available to any and all countries.” The software can be customized to any country according to local requirements.

    CoWin stands for Covid Vaccine Intelligent Work. Back in January 2021, the platform was unveiled by the union government as it launched the vaccination drive in the country. The website was created to give users a chance to book vaccine slots, keep a track of the overall vaccination drive in the country and download the Covid-19 vaccine certificate.

    At the backend, it also allows healthcare providers to manage vaccine stock and keep a track of the workflow.

    More than 100+ countries, as per the GOI, have shown their interest in CoWin platform. These countries include Canada, Mexico, Nigeria, among others.

    The GOI has made it clear that the code for Cowin will be made open source and won’t attach any intellectual property rights to it.

    CCNA 200-301 Latest Syllabus

    0
    CCNA 200-301 EXAM DETAILS
    CCNA 200-301 Latest Complete Syllabus

    NETWORK FUNDAMENTALS
    a) Explain the role and function of network components
    b) Describe characteristics of network topology architectures
    c) Compare physical interface and cabling types
    d) Identify interface and cable issues (collisions, errors, mismatch duplex, and/or speed)
    e) Compare TCP to UDP
    f) Configure and verify IPv4 addressing and subnetting
    g) Describe the need for private IPv4 addressing
    h) Configure and verify IPv6 addressing and prefix
    i) Compare IPv6 address types
    j) Verify IP parameters for Client OS (Windows, Mac OS, Linux)
    k) Describe wireless principles
    l) Explain virtualization fundamentals (virtual machines)
    m) Describe switching concepts

    NETWORK ACCESS
    a) Configure and verify VLANs (normal range) spanning multiple switches
    b) Configure and verify interswitch connectivity
    c) Configure and verify Layer 2 discovery protocols (Cisco Discovery Protocol and LLDP)
    d) Configure and verify (Layer 2/Layer 3) EtherChannel (LACP)
    e) Describe the need for and basic operations of Rapid PVST+ Spanning Tree Protocol and identify basic operations
    f) Compare Cisco Wireless Architectures and AP modes
    g) Describe physical infrastructure connections of WLAN components (AP,WLC, access/trunk ports, and LAG)
    h) Describe AP and WLC management access connections (Telnet, SSH, HTTP,HTTPS, console, and TACACS+/RADIUS)
    i) Configure the components of a wireless LAN access for client connectivity using GUI only such as WLAN creation, security settings, QoS profiles, and advanced WLAN settings

    CCNA – IP CONNECTIVITY
    a) Interpret the components of routing table
    b) Determine how a router makes a forwarding decision by default
    c) Configure and verify IPv4 and IPv6 static routing
    d) Configure and verify single area OSPFv2
    e) Describe the purpose of first hop redundancy protocol

    IP SERVICES
    a) Configure and verify inside source NAT using static and pools
    b) Configure and verify NTP operating in a client and server mode
    c) Explain the role of DHCP and DNS within the network
    d) Explain the function of SNMP in network operations
    e) Describe the use of syslog features including facilities and levels
    f) Configure and verify DHCP client and relay
    g) Explain the forwarding per-hop behavior (PHB) for QoS such as classification, h)marking, queuing, congestion, policing, shaping
    i) Configure network devices for remote access using SSH
    j) Describe the capabilities and function of TFTP/FTP in the network

    CCNA – SECURITY FUNDAMENTALS
    a) Define key security concepts (threats, vulnerabilities, exploits, and mitigation techniques)
    b) Describe security program elements (user awareness, training, and physical access control)
    c) Configure device access control using local passwords
    d) Describe security password policies elements, such as management, complexity, and password alternatives (multifactor authentication, certificates, and biometrics)
    e) Describe remote access and site-to-site VPNs
    f) Configure and verify access control lists
    g) Configure Layer 2 security features (DHCP snooping, dynamic ARP inspection, and port security)
    h) Differentiate authentication, authorization, and accounting concepts
    i) Describe wireless security protocols (WPA, WPA2, and WPA3)
    j) Configure WLAN using WPA2 PSK using the GUI

    CCNA – AUTOMATION AND PROGRAMMABILITY
    a) Explain how automation impacts network management
    b) Compare traditional networks with controller-based networking
    c) Describe controller-based and software defined architectures (overlay, underlay, and fabric)
    d) Compare traditional campus device management with Cisco DNA Center enabled device management
    e) Describe characteristics of REST-based APIs (CRUD, HTTP verbs, and data encoding)
    f) Recognize the capabilities of configuration management mechanisms Puppet, Chef, and Ansible
    g) Interpret JSON encoded data

    CCNA 200-301 EXAM DETAILS
    a) Duration: 120 minutes
    b) Questions: 120 question
    c) Passing score: 849 (on scale of 1000)





    ड्यूक ऑफ एडिनबर्ग (Prince Philip: Duke of Edinburgh)

    0
    Duke of Edinburgh
    Prince Philip died at 99-Duke of Edinburgh

    1.  प्रिंस फिलिफ कौन थे?
    वे ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के पति थे। उनका 9 अप्रैल, 2021 को विंडसर कैसेल में निधन हो गया। वे कोरोना से संक्रमित थे। उनका संक्रमण और हृदय संबंधी रोग का इलाज चल रहा था। वे 99 वर्ष के थे। उन्हें ड्यूक ऑफ एडिनबर्ग भी कहा जाता था। उनका और महारानी एलिजाबेथ का लगभग 73 वर्ष का साथ रहा। वे किसी ब्रिटिश शासक के काल के सर्वाधिक समय तक पटराजा रहे थे। वे ब्रिटिश परिवार के सबसे वृद्ध पुरूष सदस्य भी थे।

    जीवन परिचय
    >  उनका जन्म ग्रीस के कोर्फू आइलैंड में 10 जून, 1921 को हुआ था। वे ग्रीस व डेनिश राजपरिवार के सदस्य थे। वे अपने गृह देश से परिवार सहित निर्वासित हो गए थे।
    >  ग्रीस छोड़ने के बाद वे फ्रांस, जर्मनी व ब्रिटेन आए।
    >  उन्होंने ब्रिटेन में शिक्षा पाने के बाद लंबे समय तक ब्रिटिश शाही नौसेना में सेवाएँ दी।
    >  उनकी शादी महारानी एलिजाबेथ से 1947 में हुई थी। इसके पाँच वर्ष बाद 1952 में एलिजाबेथ महारानी बनी थी।
    >  उनकी पत्नी ने उन्हें सन् 1957 में ब्रिटिश का राजकुमार बना दिया। उन्होंने महारानी को 60 वर्ष तक उनके दायित्व के निर्वहन में मदद की।उनके आठ पोते और पाँच पड़पोते हैं।
    >  वे प्रिंस चार्ल्स के पिता और प्रिंस हैरी व प्रिंस विलियम के दादा थे। वे अपना अधिकतर समय नॉरफ्लोक स्थित महारानी के सैंडीघम स्टेट में ही बिताते थे।
    >  वे 2017 में अपनो सार्वजनिक कर्तव्यों से सेवानिवृत्त हो गए थे।
    >  उन्होंने ब्रिटेन की राजशाही को आधुनिक रूप देने में अहम भूमिका निभाई थी।

    प्रिंस फिलिफ : एक दृष्टि में —
    ¬¬¬¬¬¬¬¬¬¬¬¬¬¬¬¬¬¬¬¬¬¬¬¬¬¬¬¬¬
    (i) पूरा नाम — फिलिफ माउंटबेटन
    (ii) जन्म की तिथि एवं स्थान — 10 जून 1921, मॉन रेपोस, कोर्फू द्वीप, यूनानी साम्राज्य
    (iii) घराना —ग्लुक्सबर्ग राजघराना (1947 तक) तथा (माउंटबेटन 1947 से)
    (iv) मृत्यु की तिथि एवं स्थान — 9 अप्रैल, 2021, विंडसर कैसल, विंडसर, यूनाइटेड किंगडम
    (v) पत्नी — एलिजाबेथ द्वितीय (विवाह — 20 नवंबर, 1947)
    (vi) संतान — चार्ल्स, वेल्स के राजकुमार (पुत्र) , ऐनी, प्रिंसेस रॉयल (पुत्री), राजकुमार ऐंड्रयु, यार्क के ड्यूक (पुत्र), राजकुमार एडवर्ड , वेसेल्स केअल (पुत्र)
    (vii) बहन — प्रिंसेस सेसिली ऑफ ग्रीस एण्ड डेनमार्क
    (viii) माता-पिता — प्रिंसेस ऐलिस ऑफ वैटेन- बर्ग, प्रिंस एंड्रयू ऑफ ग्रीस एण्ड डेनमार्क
    (ix) पदवी और अलंकार — हिजरोयल हाइनेस और एडिनबर्ग के ड्यूक
    (x) सेवा के वर्ष — 1939-1959 (सक्रिय सेवा)

    नागरिकता संशोधन अधिनियम Citizenship Amendment Act (CAA)

    0
    CAA
    Citizenship Amendment Act (CAA)

    वर्तमान में 5 राज्यों (पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, केरल, पांडिचेरी और असम) में चल रहे चुनावों के भाषणों, रैलियों आदि में CAA, NRC आदि नागरिकता से संबंधित शब्दों का काफी प्रयोग किया जा रहा है। इन शब्दों का प्रयोग क्यों किया जा रहा है? वास्तव में ये शब्द नागरिकता संशोधन कानून से संबंधित हैं। नागरिकता संशोधन कानून (CAA) पर देश भर में विरोध प्रदर्शन जारी है। यद्यपि केंद्र सरकार इस पर कदम पीछे हटाने को तैयार नहीं हैं। लोकसभा और राज्यसभा में बिल पास होने के बाद राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के साथ ही नागरिकता संशोधन विधेयक ने कानून का रूप ले लिया है।

    1.  नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 क्या है?
    वास्तव में नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 एक ऐसा बिल है जो पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से 31 दिसंबर, 2014 तक धार्मिक उत्पीड़न के चलते भारत आने वाले 6 समुदायों (हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, ईसाई और पारसी) के अवैध शरणार्थियों को भारत की नागरिकता देने की बात करता है।
    इसके अतिरिक्त यह भारत के विदेशी नागरिक (Overseas Citizen of India—OCl) कार्ड धारकों के पंजीकरण और उनके अधिकारों को नियंत्रित करता है। OCI भारत यात्रा के लिए पंजीकरण प्रणाली को बहुउद्देशीय, आजीवन वीजा जैसे कुछ लाभ प्रदान करता है।

    2.  नागरिकता कौन प्रदान करता है?
    भारतीय संविधान के अनुसार, नागरिकता एक संघीय विषय है। राज्य सरकारों को इस संबंध में कार्य करने का कोई अधिकार प्राप्त नहीं है। नागरिकता के संबंध में नियम बनाने और उन्हें संचालित करने का अधिकार केवल केन्द्रीय संसद को ही प्राप्त है।

    3.  नागरिकता को प्रमाणित कैसे किया जा सकता है?
    इसे निम्नलिखित रूप में प्रमाणित किया जा सकता है —
    (i)जमीन के दस्तावेज, जैसे —बैनामा, भूमि के मालिकाना हक का दस्तावेज।
    (ii) राज्य के बाहर से जारी किया गया स्थायी निवास प्रमाणपत्र।
    (iii) भारत सरकार की ओर से जारी पासपोर्ट।
    (iv) किसी भी सरकारी प्राधिकरण द्वारा जारी लाइसेंस /प्रमाणपत्र।

    4.  नागरिकता कानून क्या है?
    31 दिसम्बर, 2014 या उससे पहले भारत आने वाले पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के छह धर्मों के अल्पसंख्यकों को घुसपैठिया नहीं माना जाएगा। नागरिकता अधिनियम, 1955 अवैध प्रवासियों को भारतीय नागरिकता प्राप्त करने से प्रतिबंधित करता है।

    5.  संविधान में अब तक कितनी बार संशोधन हो चुका है?
    26 नवम्बर, 1949 को भारत का संविधान पारित हुआ तथा यह 26 जनवरी, 1950 को औपचारिक रूप से लागू किया गया था।अब तक 126 संविधान संशोधन विधेयक संसद में लाए गए हैं जिनमें से 104 संविधान संशोधन विधेयक पारित हो चुके हैं।

    6.  भारत का नागरिक कौन है?
    अनुच्छेद 5 के अनुसार, यदि कोई व्यक्ति भारत में जन्म लेता है और उसके माता-पिता दोनों या दोनों में से कोई एक भारत में पैदा हुआ हो तो वह भारत का नागरिक होगा। भारत का संविधान लागू होने के पाँच वर्ष से पहले से भारत में रह रहा प्रत्येक व्यक्ति भारत का नागरिक होगा।

    7.  भारतीय नागरिकता किस प्रकार प्राप्त की जा सकती है?
    भारतीय नागरिकता अधिनियम 1955 के अनुसार भारतीय नागरिकता निम्न 5 प्रकार से प्राप्त की जा सकती है —
    (i) जन्म से (By Birth)
    (ii) वंश परम्परा द्वारा
    (iii) पंजीकरण द्वारा
    (iv) देशीकरण द्वारा
    (v) भूमि के अर्जन द्वारा

    8.  NRC (National Register of Citizens) के लिए क्या-क्या प्रमाण पत्र चाहिए?
    इसके लिए मांगे गए आवश्यक दस्तावेज हैं —
    (i) 1951 का NRC
    (ii) 24 मार्च, 1971 तक का मतदाता सूची में नाम
    (iii) जमीन का मालिकाना हक या किरायेदार होने का रिकॉर्ड
    (iv) नागरिकता प्रमाण पत्र
    (v) स्थायी निवासी प्रमाण पत्र
    (vi) शरणार्थी पंजीकरण प्रमाण पत्र
    (vii) किसी भी सरकारी प्राधिकरण द्वारा जारी लाइसेंस /सर्टिफिकेट

    9.  NRC लागू करने का उद्देश्य क्या है?
    इसे लागू करने का मुख्य उद्देश्य यही है कि अवैध नागरिकों की पहचान करके या तो उन्हें वापस भेजा जाए या फिर जिन्हें संभव हो, उन्हें भारत की नागरिकता देकर वैध बनाया जाए।

    10.  NRC की आवश्यकता क्यों पड़ी?
    इसकी आवश्यकता इसलिए पड़ी क्योंकि 1971 के दौरान बांग्लादेश से बहुत सारे लोग भारतीय सीमा में घुस गए थे। ये लोग अधिकतर असम और प० बंगाल में घुसे थे। ऐसे में यह आवश्यक हो जाता है कि जो घुसपैठिए हैं, उनकी पहचान करके उन्हें बाहर निकाला जाए।

    11.  इस नागरिकता संशोधन अधिनियम को लेकर क्या चिंताएँ व्यक्त की जा रही है?
    आलोचकों के अनुसार,
    *  यह 1985 के असम समझौते का उल्लंघन करता है जिसके अनुसार 25 मार्च, 1971 के बाद बांग्लादेश से आए अवैध प्रवासियों को धर्म की परवाह किए बिना देश से बाहर निकाल दिया जाएगा।
    *  इससे NRC का प्रभाव खत्म हो जाएगा।
    *  यह संविधान के अनुच्छेद 14 का उल्लंघन है (जो नागरिक और विदेशी दोनों को समानता और अधिकार की गारंटी देता है।) क्योंकि धर्मनिरपेक्षता का सिद्धांत संविधान की प्रस्तावना में निहित है।
    *  भारत में कई अन्य शरणार्थी हैं जिनमें श्रीलंका, तमिल और म्यांमार से आए हिंदू रोहिंग्या शामिल हैं लेकिन उन्हें अधिनियम के अंतर्गत शामिल नहीं किया गया है।

    12.  यह कानून कहाँ लागू नहीं होगा?
    यह कानून संविधान की छठी अनुसूची में शामिल राज्य व आदिवासी क्षेत्रों में लागू नहीं होगा—
    *  असम : कारबी आंगलोंग जिला, बोडोलैंड, नार्थ चाधर हिल्स जिला।
    *  मेघालय : खासी हिल्स, जयंतियां हिल्स और गारो हिल्स जिले। मेघालय में सिर्फ शिलांग को छोड़कर शेष क्षेत्रों में कानून लागू नहीं होगा।
    *  त्रिपुरा के आदिवासी जिले।
    *  मिजोरम, अरुणाचल प्रदेश और नागालैंड।
    *  ये प्रावधान बंगाल ईस्टर्न फ्रंटियर रेगुलेशन, 1873 के अंतर्गत अधिसूचित ‘इनर लाइन’ क्षेत्रों पर भी लागू नहीं होंगे।

    गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम अधिनियम Unlawful Activities Prevention Act (UAPA)

    0
    UAPA
    Unlawful Activities Prevention Act (UAPA)

    UAPA Act एक बार फिर चर्चाओं में आ गया है। हाल ही में किसान आंदोलन के अंतर्गत 26 जनवरी, 2021 को ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा और सेलेब्रिटी ट्वीट विवाद के बाद इस कानून के अंतर्गत गिरफ्तारियां की गई हैं। जिन्हें लेकर देश में उबाल है।

    1.  गैर कानूनी गतिविधियाँ रोकथाम अधिनियम (UAPA ACT) क्या है?
    इस कानून का मुख्य काम आंतकी गतिविधियों को रोकना है। इस कानून के अंतर्गत पुलिस ऐसे आतंकियों, अपराधियों या अन्य लोगों को चिह्नित करती है, जो आतंकी गतिविधियों में शामिल होते हैं, इसके लिए लोगों को तैयार करते हैं या फिर ऐसी गतिविधियों को बढ़ावा देते हैं। इस मामले में राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) को काफी शक्तियां प्राप्त होती है। एन आई ए महानिदेशक किसी मामले की जांच के समय संबंधित व्यक्ति की संपत्ति की कुर्की-जब्ती भी करवा सकते हैं।

    2.  यह कानून कब आया तथा इसका संशोधन कब हुआ?
    यह कानून 1967 में लाया गया था। इस कानून को संविधान के अनुच्छेद 19(1) के अंतर्गत दी गई मूल स्वतंत्रता पर तर्कसंगत सीमाएं लगाने के लिए लाया गया था। यद्यपि 2004,2008, 2012 और 2019 में इस कानून में परिवर्तन किए गए। अगस्त 2019 में ही इसका संशोधन बिल संसद से पास हुआ था। इसके बाद इस कानून को शक्ति मिल गई है कि किसी भी व्यक्ति को जांच के आधार पर आतंकवादी घोषित किया जा सकता है। इस कानून के अंतर्गत किसी व्यक्ति पर शक होने मात्र से ही उसे आतंकवादी घोषित किया जा सकता है। इसके लिए उस व्यक्ति का किसी आतंकी संगठन से संबंध दिखाना भी आवश्यक नहीं होगा।

    3.  इस कानून के प्रावधानों का दायरा क्या है?
    इस कानून के प्रावधानों का दायरा बहुत बड़ा है। इसलिए इसका प्रयोग अपराधियों
    के अलावा एक्टिविस्ट्स और आंदोलनकारियों पर भी हो सकता है।
    UAPA के सेक्शन 2(0) के अंतर्गत भारत की क्षेत्रीय अखंडता पर सवाल करने को भी गैर कानूनी गतिविधियों में  शामिल किया गया है। इस कानून के अंतर्गत ‘भारत के खिलाफ असंतोष’ फैलाना भी कानूनन अपराध है।
    *  UAPA में धारा 18,19,20,38 और 39 के अंतर्गत केस दर्ज होता है।
    *  धारा 38 तब लगती है जब आरोपी के आतंकी संगठन से जुड़े होने की बात पता चलती है। धारा 39 आतंकी संगठनों को मदद पहुँचाने पर लगाई जाती है।
    *  धारा 43D (2) में किसी व्यक्ति की पुलिस हिरासत की अवधि दुगुना करने का प्रावधान है। इसमें पुलिस को 30 दिन की कस्टडी मिल सकती है।वहीं न्यायिक हिरासत 90 दिन की भी हो सकती है।
    *  धारा 43D (5) के अनुसार, कोर्ट व्यक्ति को जमानत नहीं दे सकता, अगर उनके विरुद्ध प्रथम दृष्टया केस बनता है।
    *  गैर कानूनी संगठनों, आतंकवादी गैंग और संगठनों की सदस्यता को लेकर इसमें कड़ी सजा का प्रावधान है।
    *  सरकार द्वारा घोषित आतंकी संगठन का सदस्य पाए जाने पर आजीवन कारावास की सजा मिल सकती है।

    4.  इस कानून में संशोधन की आवश्यकता क्यों थी?
    मूल रूप से देश में अघोषित रूप में फैले हुए कई आतंकी नेटवर्क को खत्म करने के लिए यह प्रावधान संशोधित किए गए थे। पूर्व के कानून के अनुसार आतंकी संगठनों से संबंध रखने वाली संस्थाओं पर तो प्रतिबंध लगाए जा सकते थे लेकिन उनके संचालक या सदस्य बच जाते थे। कुछ समय बाद वे संचालक या सदस्य पुनः नए नाम से नया संगठन या नई संस्था बना लेते थे। इस संकट को भांपते हुए 2019 में केंद्र सरकार ने 1967 के बने हुए गैर – कानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम में कठोर संशोधन किए। जिसके बाद से आतंकी संगठनों से किसी भी तरह का संबंध रखने वाली संस्थाओं के साथ ही उनके संचालक और सदस्य भी प्रतिबंध के दायरे में आ गए। इसके साथ ही सुरक्षा एजेंसियां शक होने की स्थिति में उन्हें आतंकी भी घोषित कर सकती हैं ।

    5.  इस कानून (UAPA) पर विवाद का मुख्य कारण क्या है?
    इस कानून( U A P A) को लेकर विपक्षी दल और एक्टीविस्ट हमेशा से इसके विरोध में रहे हैं। उनका डर है कि सरकार इस कानून का प्रयोग उन्हें चुप कराने के लिए कर सकती है। एक्टीविस्ट समूहों के लोगों का कहना है कि सरकार इस कानून का अनाधिकृत और मनमाना प्रयोग करते हुए संविधान के अनुच्छेद 19 (1) के अंतर्गत मिले अधिकारों का हनन कर सकती है। उन्हें शक है कि असली आतंकियों के साथ-साथ सरकार की नीतियों के विरोधी लेखकों, अभियुक्तों के वकीलों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं पर भी इसका प्रयोग हो सकता है।

    रजनीकांत :51 वां दादा साहेब फाल्के पुरस्कार विजेता

    0
    Rajnikant
    Dada Saheb Falke Award

    सिनेमा जगत के ‘थलाइवा’ (भगवान) अभिनेता और दक्षिण फिल्मों के सुपर स्टार रजनीकांत को 51वें दादा साहेब फाल्के पुरस्कार (वर्ष 2019)  से सम्मानित किया जाएगा। केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने 1 अप्रैल 2021 को इस बात की जानकारी दी।

    1.  भारतीय सिनेमा में रजनीकांत का योगदान क्या है ?
    रजनीकांत भारतीय सिनेमा के इतिहास के सबसे बेहतरीन अभिनेताओं में से एक हैं। भारतीय सिनेमा में अभिनेता, निर्माता और स्क्रीन राइटर के रूप में उनका योग आइकॉनिक है। इन्होंने ने न सिर्फ साउथ फिल्मों में अपनी अमिट छाप छोड़ी है बल्कि कई बॉलीवुड फिल्मों में भी नजर आए हैं जिसमें चालबाज, अंधा कानून, कबाली, 2.0, द रोबोट, त्यागी, खून का कर्ज, दोस्ती दुश्मनी, इंसाफ कौन करेगा आदि प्रमुख हैं।

    2.  इस अवार्ड के चयनकर्ता (ज्यूरी) कौन थे?
    इस पुरस्कार के विजेता का चयन भारतीय फिल्म प्रयोग की बड़ी हस्तियों की कमिटी द्वारा किया जाता है। यह पुरस्कार किसी अभिनेता /अभिनेत्री को भारतीय सिनेमा के विकास में उनके अहम योगदानों के लिए दिया जाता है।
    विजेता को एक स्वर्ण कमल (Golden lotus) मेडल, शॉल और 10 लाख रूपये नकद पुरस्कार से सम्मानित किया जाता है। रजनीकांत के नाम के चयन में पाँचों ज्यूरी के सदस्यों का एक मत ही फैसला था। ये पाँचों ज्यूरी  सदस्य थे —आशा भोंसले, मोहनलाल, विश्व जीत चटर्जी , शंकर महादेवन और सुभाष घई।

    3.  यह पुरस्कार कौन देता है तथा विजेता का चयन किस प्रकार होता है?
    दादा साहेब फाल्के पुरस्कार सिनेमा के क्षेत्र में भारत का सबसे बड़ा पुरस्कार है। प्रतिवर्ष किसी एक अभिनेता या अभिनेत्री को इस पुरस्कार के लिए चयनित किया जाता है।डायरेक्टर ऑफ फिल्म फेस्टिवल्स द्वारा नेशनल अवार्ड्स समारोह (National Film Awards) में विजेता को इस पुरस्कार से सम्मानित किया जाता है। यह पूरी प्रक्रिया केंद्र सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय (MIB – Ministry of Information and Broadcasting) के अधीन आती है।

    भारत सरकार ने आज से लगभग 50 वर्ष पूर्व 1969 में पहली बार दादा साहेब फाल्के अवार्ड की शुरूआत की थी। सबसे पहला दादा साहेब फाल्के अवार्ड अभिनेत्री देविका रानी को दिया गया था। उन्हें 17 वें नेशनल फिल्म अवॉर्ड्स समारोह में इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। देविका रानी को भारतीय सिनेमा की फर्स्ट लेडी भी कहा जाता है। अमिताभ बच्चन को मिलाकर अब तक कुल 50 लोगों को यह सम्मान दिया जा चुका है।

    4.  दादा साहेब फाल्के पुरस्कार के विजेता कौन – कौन हैं?
    दादा साहेब फाल्के पुरस्कार के विजेता निम्नलिखित हैं —
    (i) देविका रानी (1969)
    (ii) बिरेन्द्र नाथ सरकार (1970)
    (iii) पृथ्वीराज कपूर (1971)
    (iv) पंकज मल्लिक (1972)
    (v) रुपी मियर्स (सुलोचना) (1973)
    (vi) बी एन रेड्डी (1974)
    (vii) धीरेंद्र नाथ गांगुली (1975)
    (viii) कानन देवी (1976)
    (ix) नितिन बोस (1977)
    (x)रामचंद बोरल (1978)
    (xi) सोहराब मोदी (1979)
    (xii) पैदी जयराज (1980)
    (xiii) नौशाद (1981)
    (xiv) एल वी प्रसाद (1982)
    (xv) दुर्गा खोटे (1983)
    (xvi) सत्यजीत रे (1984)
    (xvii) वी. शांताराम (1985)
    (xviii) वी नागी रेड्डी (1986)
    (xix) राज कपूर (1987)
    (xx) अशोक कुमार (1988)
    (xxi) लत्ता मंगेशकर (1989)
    (xxii) अक्कीनेनी नागेश्वर राव (1990)
    (xxiii) भालजी पेंधरकर (1991) 
    (xxiv) भूपेन हजारिका (1992)
    (xxv) मजरूह सुल्तानपुरी (1993)
    (xxvi) दिलीप कुमार (1994)
    (xxvii) राज कुमार (1995)
    (xxviii) शिवाजी गणेशन (1996)
    (xxix) कवि प्रदीप (1997)
    (xxx) वी आर चोपड़ा (1998)
    (xxxi) ऋषिकेश मुखर्जी (1999)
    (xxxii) आशा भोंसले (2000)
    (xxxiii) यश चोपड़ा (2001)
    (xxxiv) देवानंद (2002)
    (xxxv) मृणाल सेन (2003)
    (xxxvi) अदूर गोपालकृष्णन (2004)
    (xxxvii) श्याम बेनेगल (2005)
    (xxxviii) तपन सिंह (2006)
    (xxxix) मन्ना डे (2007)
    (XL) वी के मूर्ति (2008)
    (XLi) डी रामनायडु (2009)
    (XLii) के . बालचंद (2010)
    (XLiii) सॉमित्र चटर्जी (2011)
    (XLiv) प्राण (2012)
    (XLv) गुलजार (2013)
    (XLvi) शशि कपूर (2014)
    (XLvii) मनोज कुमार (2015)
    (XLviii) कासी नाथुनी विश्वनाथ (2016)
    (XLix) विनोद खन्ना (2017)
    (L) अमिताभ बच्चन (2018)

    *  रजनीकांत कांत : एक परिचय –
    (i)वास्तविक नाम – शिवाजी गायकवाड़
    (ii) जन्म -12 दिसंबर, 1950
    (iii) जन्म स्थान – बैंगलोर, मैसूर राज्य, भारत
    (iv) आवास – चेन्नई, तमिलनाडु, भारत
    (v) व्यवसाय – अभिनेता, निर्माता, पटकथा लेखक
    (vi) भाषाई फिल्में – तमिल एवं हिन्दी
    (vii) सक्रिय वर्ष – 1975
    (viii) पत्नी – लता रजनीकांत
    (ix) बच्चे – ° ऐश्वर्या आर धनुष
                    ° सौंदर्या
    (x) संबंधी – धनुष (जामाता)
    (xi) पुरस्कार – पद्म विभूषण (2015) ;पद्म भूषण (2000) ;फिल्म फेयर अवार्ड (1984)
    (xii) प्रथम फिल्म – अपूर्व रांगगल (1975)

    विमुद्रीकरण (Demonetization) और देश की आर्थिक व्यवस्था

    0
    Indian Demonetization History
    Indian Demonetization History in details

    1.  नोटबंदी या विमुद्रीकरण (Demonetization) क्या है?
    विमुद्रीकरण (Demonetization) एक आर्थिक गतिविधि है जिसके अंतर्गत सरकार पुरानी मुद्रा को समाप्त कर देती है और नई मुद्रा को चालू करती है। जब काला धन बढ़ जाता है और अर्थव्यवस्था के लिए खतरा बन जाता है तो इसे दूर करने के लिए इस विधि का प्रयोग किया जाता है। जिनके पास काला धन होता है, वे उसके बदले में नई मुद्रा लेने का साहस नहीं जुटा पाते हैं और काला धन स्वयं ही नष्ट हो जाता है। विमुद्रीकरण के बाद पुरानी मुद्रा अथवा नोटों की कोई कीमत नहीं रह जाती। हालांकि सरकार द्वारा पुरानी नोटों को बैंकों से बदलने के लिए लोगों को समय दिया जाता है, ताकि वे अमान्य हो चुके अपने पुराने नोटों को बदल सकें।

    2.  वर्ष 2016 में कौन-कौन नोट रद्द कर दिए गए थे?
    8 नवंबर, 2016 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश में 1000 और 500 रूपए के नोट बंद करने की घोषणा की अर्थात् विमुद्रीकरण (Demonetization) की घोषणा की। आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल ने भी सरकार की इस घोषणा का समर्थन किया। इसके बाद सरकार 500 और 2000 रूपए के नए नोट भी बाजार में लेकर आई। आरबीआई के अनुसार 31 मार्च, 2016 तक भारत में 16. 42 लाख करोड़ रुपए मूल्य के नोट बाजार में थे, जिसमें से लगभग 14.18 लाख रुपए 500 और 1000 के नोटों के रूप में थे। 1938 में गठित भारतीय रिजर्व बैंक ने अभी तक 10 हजार रुपए से अधिक का नोट जारी नहीं किया।

    3.  भारत में नोटबंदी या विमुद्रीकरण (Demonetization)कब-कब और कितनी बार हुआ है?
    (i)  विमुद्रीकरण (Demonetization) हमारे देश के लिए कोई नई बात नहीं थी। हमारे भारत में पहली बार वर्ष 1946 में 500, 1000 और 10 हजार के नोटों को बंद करने का फैसला लिया गया था।
    1970 के दशक में भी प्रत्यक्ष कर की जांच से जुड़ी वांचू कमेटी ने विमुद्रीकरण का सुझाव दिया था, लेकिन सुझाव सार्वजनिक हो गया, जिसके चलते नोटबंदी नहीं हो पाई।
    (ii) जनवरी 1978 में मोरारजी देसाई की जनता पार्टी सरकार ने एक कानून बनाकर 1000,5000 और 10 हजार के नोट बंद कर दिए। हालांकि तत्कालीन आरबीआई गवर्नर आईजी पटेल ने इस नोटबंदी का विरोध किया था।
    (iii) वर्ष 2005 में मनमोहन सिंह की कांग्रेस सरकार ने 500 के 2005 से पहले के नोटों का विमुद्रीकरण कर दिया था।
    (iv) 2016 में भी मोदी सरकार ने 500 और 1000 के नोटों की नोटबंदी या विमुद्रीकरण का फैसला किया। इन दो करेंसी ने भारतीय अर्थव्यवस्था के 86% भाग पर कब्जा किया था। यही नोट बाजार में सबसे अधिक प्रचलन में थे। इसी कारण से इसका इतना बड़ा बवाल और परिणाम हुआ

    4.  नोटबंदी के समय भारत की स्थिति कैसी हो गई थी?
    नोटबंदी के समय पूरा भारत ‘कैशलेस’ हो गया था। सारा लेन – देन ऑनलाइन हो गया था। इस समय लोगों को बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ा। विमुद्रीकरण ने लोगों को थोड़े दिन की परेशानी जरूर दी थी लेकिन इससे बहुत ही ज्यादा लाभ भी हुआ है। ऐसा भी कहा जाता है कि विमुद्रीकरण की योजना उतनी सफल नहीं रही जितनी होनी चाहिए थी।

    5.  नोटबंदी या विमुद्रीकरण (Demonetization) के लाभ क्या है?
    नोटबंदी के समय लोगों को थोड़ी बहुत परेशानी का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बहुत से लाभ भी हुए हैं –
    (i) जब लोग बैंकों में पैसा बदलवाने गए तब उनके हर एक पैसे की जानकारी सरकार के पास चली गई। जिनके पास आय से ज्यादा पैसा मिला उनसे आयकर विभाग वालों ने जाँच पड़ताल की और बहुत से लोगों के पास मौजूद काला धन पकड़ा गया।
    (ii) काला धन ही है जो आतंकवाद और हिंसा को बढ़ावा देता है। काला धन कम होने की वजह से आतंकवाद में भी कमी हुई है। क्योंकि वे जिस काले धन को दहशत फैलाने के लिए उपयोग कर रहे थे, नोटबंदी या विमुद्रीकरण के कारण वह केवल कागज रह गया था।
    (iii) नोटबंदी या विमुद्रीकरण की वजह से बहुत सा काला धन खत्म हुआ है और वह धन सरकार के कोष में जमा हो गया । जिसके कारण सरकार के पास धन बढ़ा है और सरकार ने उन पैसों को देश के विकास में प्रयोग किया है।
    (iv) बैकों में नकद होने के कारण ब्याज दरों में भी गिरावट हुई है।
    (v) बैंकों में पैसे होने के कारण लोगों को बड़े पैमाने पर उधार भी दिया जाता है जिससे वे उद्योग लगा सकें। इस तरह से रोजगार में भी वृद्धि हुई है।
    (vi) नोटबंदी या विमुद्रीकरण के कारण आम लोगों को आर्थिक कर और उसके प्रति अपनी जिम्मेदारी का अहसास हुआ है। यह बहुत बड़ी बात है।
    (vii) नोटबंदी या विमुद्रीकरण के होने से सभी ऑनलाइन , डिजिटल पेमेंट करने लगे हैं। यहाँ तक की चाय वाला, किराने वाला, जेरॉक्स, प्रिंटिंग वाला भी अब ऑनलाइन भुगतान करवाता है। यह नोटबंदी से प्राप्त हुई एक बहुत बड़ी उपलब्धि है।
    (viii) नोटबंदी या विमुद्रीकरण के कारण नकली नोट छापने का काम भी बंद हो गया है जिसकी वजह से देश से नकली नोटों को बहुत बड़ी मात्रा में निकाल दिया गया है।

    6.  नोटबंदी या विमुद्रीकरण (Demonetization) की हानियाँ क्या हैं ?
    हर सिक्के के दो पहलू होते हैं। अगर नोटबंदी के लाभ नजर आते हैं तो उसकी कुछ हानियाँ भी उसके साथ-साथ चलती आई हैं। लेकिन हानियाँ कुछ दिनों की थी और लाभ लंबे समय तक चलने वाले हैं। नोटबंदी से निम्नलिखित हानियाँ हुईं –
    (i) स्थानीय पैसा न होने के कारण सबसे ज्यादा नुकसान पर्यटन स्थलों को हुआ। बहुत से लोगों ने अपने भारत दौरे को भी रद्द किया। काम में बहुत मंदी आई।
    (ii) आम लोगों के दैनिक जीवन में तकलीफ हुई हैं।उन्हें बैंकों और एटीएम के सामने घंटों लाइनों में खड़े रहना, अस्पताल का बिल, बिजली का बिल, किराये की समस्या और बहुत सी समस्याओं का सामना करना पड़ा।
    (iii) लोग शादियाँ भी उतनी धूमधाम से नहीं कर पाए जितना उन्होंने सोचा था।
    (iv) वर्तमान में नोटबंदी पर बहुत सवाल उठाए जा रहे हैं। कुछ लोगों का कहना है कि नोटबंदी असफल हुई है। यह एक योजना है जिसमें काले धन को सफेद किया जाता है। कुछ लोगों का कहना है कि नोटबंदी से कोई लाभ नहीं हुआ है सिर्फ हानि हुई है। भारत की आर्थिक प्रगति दर 7.5 से कम होकर 6.3 हो गई है।
    (v) नए नोटों को छापने में बहुत पैसा खर्च हुआ। शायद नोटबंदी से जिस स्तर की अपेक्षाएँ की गई थी वे हासिल नहीं हुईं।