Monday, January 18, 2021
More

    भारतीय डाक सेवा के बढ़ते कदम

    1. भारत में सुव्यवस्थित और पहली डाक व्यवस्था का श्रेय अलाउद्दीन खिलजी को जाता है। उसने घुड़सवारी और दौड़ाकों का व्यापक जाल फैला रखा था, जो उसकी सेना की हर गतिविधि की जानकारी उसे देते थे।


    2. शेरशाह सूरी ने इस व्यवस्था में सुधार कर उसे और उन्नत बनाया। उसने अपने पूरे राज्य में घुड़सवारों द्वारा संदेश लाने ले जाने की व्यवस्था की।

    3. भारत में व्यवस्थित एवं नियमित डाक सेवा को प्रारंभ करने का श्रेय ईस्ट इंडिया कंपनी को है। 1727 में उसने कलकत्ता में पहले डाकघर की स्थापना की थी।

    4. 1774 में महाजनी डाक व्यवस्था शुरू हुई जिसमें ईस्ट इंडिया कंपनी के पत्रों के साथ कुछ शुल्क लेकर निजी पत्रों को भेजने की व्यवस्था थी।

    5. देश में पहली जी. पी. ओ. पहली जून, 1786 में मद्रास में खोला गया था।

    6. 1854 में प्रत्येक डाकघर के बाहर डब्बे यानी लेटर बाक्स लगाए गए।1892  में उनमें समय की पट्टियां भी लगाई जाने लगीं।

    7. 1840 के लगभग बंगाल में सर्वप्रथम डाकिया अथवा पोस्टमैन की नियुक्तियां की गई और इस कार्य को एक विशिष्ट सेवा माना गया।

    8. भारत एशिया में पहला देश है, जिसने सर्वप्रथम डाक टिकट जारी किया था।

    9. देश में रजिस्ट्री की शुरुआत सर्वप्रथम मुंबई में शुरू हुई उसके बाद कलकत्ता में शुरू की गई।

    10. पत्रों व पार्सलों का बीमा करने की शुरुआत 1878 में हुई।

    11. तार से मनीआर्डर भेजने की शुरुआत 1884 में हुई।

    12. भारतीय पोस्टल आर्डर का प्रचलन 1935 में शुरू हुआ।

    13. पहली टेलीग्राम मशीन 1851 में कलकत्ता में लगाई गई। बाद में 1883 में देश के सभी प्रमुख डाकघरों को तार सेवा से जोड़ दिया गया।

    14. रेलों से डाक सेवा का कार्य 1854 से आरंभ हुआ।

    15. डाक टिकट पुस्तक का प्रचलन सर्वप्रथम 1902 में हुआ था।

    16. 1911 में पहली हवाई डाक सेवा आरंभ की गई। इसकी शुरुआत इलाहाबाद से नैनी तक हुई।

    17. देश का प्रथम डाक संग्रहालय नई दिल्ली में 12 नवंबर, 1938 को खोला गया।

    18. आजादी के बाद पहला लिफाफा 6 जून, 1949 को जारी किया गया, जिस पर अशोक स्तंभ को अंकित किया गया।

    19. रसीदी टिकट या रेवेन्यू टिकट का विक्रय डाकघर से 1934 से किया जाने लगा।

    20. भारत में हवाई डाक टिकट की शुरुआत 1929 में हुई।

    21. आजादी मिलने के बाद पहला टिकट 21 नवंबर, 1947 को जारी किया गया था। तब उस पर ‘राष्ट्रीय चिह्न ‘ के साथ ‘जय हिंद’ भी लिखा हुआ था।


    22. भारत में 1972 में पिन कोड प्रारंभ किया गया।

    23. देश में 1984 में डाक जीवन बीमा का प्रारंभ किया गया ।

    24. भारत में 1985 में पोस्ट और टेलिकॉम विभाग पृथक किए गए ।

    25. भारत में 1986 में स्पीड पोस्ट (EME) सेवा शुरू की गई ।

    26. देश में 1990 में डाक विभाग मुंबई व चेन्नई में दो स्वचालित डाक प्रसंस्करण केंद्र स्थापित किए गए।

    27. देश में 1995 में ग्रामीण डाक जीवन बीमा की शुरुआत हुई ।

    28. भारत में 1996 में मीडिया डाक सेवा का प्रारंभ।

    29. देश में 1997 में बिजनेस पोस्ट सेवा को प्रारंभ किया गया।

    30. देश में 1998 में उपग्रह डाक सेवा शुरू की गई ।

    31. भारत में 1999 में डाटा डाक व एक्सप्रेस डाक सेवा प्रारंभ किया गया ।

    32. भारत में 2000 में ग्रीटिंग पोस्ट सेवा प्रारंभ की गई ।

    33. देश में 2001 में इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रान्सफर सेवा (EFT) प्रारंभ की गई ।

    34. देश में 3 जनवरी, 2002 में इन्टरनेट आधारित ट्रैक एवं टेक्स सेवा की शुरुआत हुई ।

    35. भारत में 15 सितम्बर, 2003 में बिल मेल सेवा प्रारंभ हुई ।

    36. देश में 30 जनवरी, 2004 में ई-पोस्ट सेवा की शुरुआत की गई ।

    37. भारत में 10 अगस्त, 2004 में लोजिस्टिक्स पोस्ट सेवा प्रारंभ की गई।

    Recent Articles

    Privacy policy update delayed till May: WhatsApp

    “We’re now moving back the date on which people will be asked to review and accept the terms. No one will have...

    Signal restored after the outage

    According to Signal, it had restored its services within a day after the application faced a technical issue as it dealt with...

    संचार उपग्रह सीएमएस-01(CMS)-

    इसरो ने मोबाइल और टीवी के सिग्नल बेहतर करने के लिए श्रीहरिकोटा से 17 दिसंबर, 2020 को संचार उपग्रह प्रक्षेपित किया।इसरो के...

    Whatsapp Desktop New Features

    Facebook Inc is all set to introduce a new feature voice and video calling option for the messaging app's desktop version next...

    Google Outage Takes Millions Offline

    An ongoing issue with Google's servers has brought down many of the company's cloud services, leaving millions of users without access to...

    Related Stories

    Leave A Reply

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Stay on top - Get the daily news in your inbox