Friday, January 21, 2022
More

    आत्मनिर्भर भारत अभियान

    1.  आत्मनिर्भर भारत अभियान क्या है?
    आत्मनिर्भर भारत अभियान (Aatma Nirbhar Bharat Abhiyan) के माध्यम से अलग-अलग प्रकार की योजना देश के नागरिकों के लिए आरंभ की गई थी। जिससे कि देश की आर्थिक स्थिति सुधर सकें। इस अभियान का मुख्य उद्देश्य देश की आर्थिक स्थिति को सुधारना है। जिससे कि देश की अर्थव्यवस्था पूर्ववत् हो सके।

    2.  आत्मनिर्भर भारत अभियान कब शुरू हुआ?
    आत्मनिर्भर भारत अभियान की शुरुआत भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कोरोना वायरस काल में अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए की थी। यह अभियान 12 मई, 2020 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा शुरू की गई। इसके अंतर्गत सबको लाभ दिया जाएगा। जिन लोगों को लॉकडाउन की मार झेलनी पड़ रही है। उन्हें सरकार द्वारा लाभार्थी बनाया जाएगा।

    3.  आत्मनिर्भर भारत बनने की आवश्यकता क्यों है?
    भारत प्राचीन काल से ही संसाधनों से परिपूर्ण देश रहा है। यहां हर प्रकार की चीजों को बनाने और उसका अपने जीवन में उपयोग कर अपने राष्ट्र निर्माण में मदद किया जा सकता है। पूरे विश्व में केवल भारत ही ऐसा देश है। जहां सबसे अधिक प्राकृतिक संसाधन पाए जाते हैं, जो कि बिना किसी देश की सहायता से वस्तुएं बना सकता है और आत्मनिर्भर भारत के सपने को पूरा कर सकता है।

    4.  आत्मनिर्भर भारत बनने की महत्वपूर्ण बातें क्या है?
    आत्मनिर्भर भारत की घोषणा के द्वारा भारत के प्रधानमंत्री ने आत्मनिर्भरता के लिए पांच महत्वपूर्ण बातें बताई है-

    (i) इंटेंट अर्थात् इरादा करना।
    (ii) इन्क्लूजन अर्थात् समावेश करना।
    (iii) निवेश अर्थात् इन्वेस्टमेंट करना।
    (iv) इंफ्रास्ट्रक्चर अर्थात् सार्वजनिक ढांचे को मजबूत करना।
    (v) नई चीजों की खोज करना।

    5.  इस अभियान से क्या लाभ होंगे?
    *  किसी दूसरे देश के आगे हाथ नहीं फैलाना पड़ेगा।
    *  देश में उद्योगों में बढ़ोतरी होगी।
    *  देश का हर युवा सफल और सक्षम होगा तथा सत्य ही उसके पास रोजगार होगा।
    *  देश बेरोजगारी के साथ-साथ गरीबी से भी मुक्त होगा।
    *  देश के पास अधिक धन होगा और उसकी आर्थिक व्यवस्था मजबूत होगी।
    *  आयात की जगह निर्यात बढ़ेगा, जिससे विदेशी मुद्रा का पर्याप्त मंडार होगा।

    6.  इस मिशन के कितने चरण हैं?
    यह  मिशन दो चरणों में लागू किया जाएगा –
    (i) इसमें चिकित्सा, वस्त्र, इलेक्ट्रॉनिक, प्लास्टिक, खिलौने जैसे क्षेत्रों को प्रोत्साहित किया जाएगा जिससे स्थानीय विनिर्माण और निर्यात को बढ़ावा दिया जा सके।

    (ii) इस चरण में फर्नीचर, फुट वेयर और एयर कंडीशनर पूंजीगत सामान तथा मशीनरी मोबाइल एवं इलेक्ट्रॉनिक, रत्न एवं आभूषण, फार्मा स्यूटिकल, टेक्सटाइल आदि शामिल हैं।

    7.  आत्मनिर्भर भारत के कितने स्तंभ हैं –
    आत्मनिर्भर भारत पाँच स्तंभों पर खड़ा है –
    (i) अर्थव्यवस्था – जो वृद्धि थील परिवर्तन के स्थान पर बड़ी उधाल पर आधारित हो।
    (ii) अवसंरचना – ऐसी अवसंरचना जो आधुनिक भारत की पहचान बने।
    (iii) प्रौद्योगिकी – 21वीं सदी प्रौद्योगिकी संचालित व्यवस्था पर आधारित प्रणाली।
    (iv)  गतिशील जनसंख्यीकि – जो आत्मनिर्भर भारत के लिए ऊर्जा के स्रोत हैं।
    (v) मांग – भारत की मांग और आपूर्ति श्रृंखला की पूरी क्षमता का उपयोग किया जाना ।

    8.  इस योजना के लिए आर्थिक प्रोत्साहन का स्वरूप क्या है?
    प्रधानमंत्री ने इस योजना की दिशा में विशेष आर्थिक पैकेज की घोषणा की है। यह पैकेज कोविड 19 महामारी की दिशा में सरकार द्वारा की गई है। पूर्व घोषणाओं तथा RBI द्वारा लिए गए निर्णयों को मिलाकर 20 लाख करोड़ रुपये का है जो भारत को सकल घरेलू उत्पाद (GDP) के लगभग 10% के बराबर है। पैकेज में भूमि, श्रम, तरलता और कानूनों पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा।

    Recent Articles

    - Advertisement -

    Related Stories

    Leave A Reply

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Stay on top - Get the daily news in your inbox