Friday, January 21, 2022
More

    टोक्यो ओलंपिक मशाल यात्रा 2021 (Olympic Torch Relay 2021)

    कोविड-19 के कारण एक वर्ष की देरी से होने वाले टोक्यो ओलंपिक खेलों की मशाल यात्रा का 25 मार्च, 2021 को आरंभ हो गया। यह खेल 24 जुलाई, 2020 से 9 अगस्त, 2020 के बीच टोक्यो, जापान में होना था। इन खेलों के आयोजन को लेकर सारे अटकलों और संशयों के बीच अंततः टोक्यो ओलंपिक की 121 दिवसीय मशाल यात्रा शुरू हुई। यह 23 जुलाई को टोक्यो में उद्घाटन समारोह के साथ समाप्त होगी। इस मशाल यात्रा में लगभग 10,000 धावकों के भाग लेने की आशा है। यह मशाल यात्रा जापान के 47 शहरों से होकर गुजरेगी।

    1.  टोक्यो ओलंपिक मशाल यात्रा की प्रमुख बातें क्या हैं?
    a) रिले की शुरुआत फुकुशिमा से हुई जो 2011 के भूकंप, सुनामी और परमाणु संयंत्रों से रिसाव की त्रासदी झेल चुका है। इस दर्दनाक त्रासदी में लगभग 18,000 लोग मारे गए थे।
    b) यह मशाल सबसे पहले अजुसा इवाशिमिझु ने थामी जो 2011 महिला विश्व कप फुटबॉल जीतने वाली जापान टीम की अहम सदस्या थी। इसके बाद अजुसा ने मशाल फुकुशिमा हाई स्कूल की छात्रा असातो ओवादा को थमाई।

    2.  ओलंपिक खेलों में मशाल क्यों जलाई जाती है?
    मशाल को प्राचीन और आधुनिक खेल के संगम से जोड़कर देखा जाता है।ग्रीस में प्राचीन ओलंपिक के पवित्र स्थान पर स्थित हेरा के मंदिर में मशाल जलाई जाती है। दर्पण की मदद से सूर्य की किरणों की तेज से प्रज्ज्वलित होने वाली यह मशाल ओलंपिक खेलों के शुभारंभ से महीनों पहले विश्वभर की अपनी यात्रा खत्म कर मेजबान देश में पहुँचती है।फिर मेजबान देश में मशाल रिले का आयोजन होता है। इसके बाद मेजबान देश का एक प्रसिद्ध एथलीट उद्घाटन समारोह के दिन इससे स्टेडियम में लगाए गए मशाल को प्रज्ज्वलित करता है। इसके साथ ही ओलंपिक खेलों की शुरुआत हो जाती है।
    मशाल जलाने की प्रथा 1928 के एम्सटर्डम ओलंपिक खेलों से पुनः आरंभ की गई थी। लेकिन ओलंपिक मशाल रिले की शुरुआत 1936 के बर्लिन गेम्स से हुई थी। इसके 24 वर्ष बाद 1960 में रोम ओलंपिक की मशाल यात्रा का पहली बार टी वी प्रसारण हुआ था।

    3.  कोविड-19 के कारण नियमों में क्या परिवर्तन किए गए हैं?
    a) टोक्यो ओलंपिक के खेल केवल स्थानीय लोगों के लिए ही खुले रहेंगे। लेकिन उन्हें भी कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करना होगा।
    b) प्रशंसकों को गाने एवं नाचकर जश्न मनाने पर पाबंदी रहेगी।
    c) अंतरराष्ट्रीय बोलंटियर भी नहीं आ सकेंगे।
    d) खिलाड़ियों को जापान पहुँचते ही 14 दिन कारंटीन नहीं होना पड़ेगा लेकिन उनके पास कोरोना निगेटिव की रिपोर्ट होनी अनिवार्य है।
    e) खिलाड़ियों का हर चौथे दिन कोरोना टेस्ट होगा। रिपोर्ट पॉजिटिव होने पर उसे प्रतिस्पर्धा में हिस्सा नहीं लेने दिया जाएगा।
    f) खिलाड़ियों के लिए कोरोना वैक्सीन लेना अनिवार्य नहीं होगा।
    g) खिलाड़ियों का पर्यटक स्थलों, रेस्टोरेंटों, बारों में जाना वर्जित होगा।

    4.  टोक्यो 2020 ओलंपिक : एक दृष्टि में
    a) 32वें ओलंपिक संस्करण में 33 खेलों की 339 स्पर्धाएँ आयोजित होंगी।
    b) 11 हजार से अधिक एथलीटों के इस खेलों में भाग लेने की आशा है।
    c) ओलंपिक खेलों की संस्था अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति ने 7 सितम्बर, 2013 को व्यूनस आयर्स, अर्जेंटीना में अपने 125 वें अधिवेशन में टोक्यो को मेजबान शहर घोषित किया था।
    d) टोक्यो में होने वाले ओलंपिक खेलों में इस बार बेसबॉल, सॉफ्टबॉल, कराटे, स्केटबोर्ड और सर्फिंग को भी शामिल किया गया है।
    e) खेलों के इस महाकुंभ की शुरुआत 23 जुलाई, 2021 से होगी और यह 8 अगस्त, 2021 को खत्म हो जाएँगी।
    f) मूल रूप से सभी प्रतियोगिता स्थलों, ओलंपिक गांव, IBC और MPC के प्रयोग के लिए बनाई गई योजना का ही वर्ष 2021 में पालन किया जाएगा।
    g) जिन एथलीटों ने टोक्यो 2020 ओलंपिक को पहले ही क्वालिफाई कर लिया है, उनकी जगह सुरक्षित रहेगी।
    h) ‘मिराइतोवा’ और ‘सोमाइटी’ को ओलंपिक में शुभंकर चुना गया जो नीले-चेक की धारियों (Indigo blue), हिरण जैसी आँखों और नुकीले कान वाला सुपर हीरो है। यह जापान की सांस्कृतिक परंपरा और आधुनिक दोनों का प्रतिनिधित्व करते हैं। ‘मिराइतोवा’ जापानी कहावत से प्रेरित है। जापानी शब्द ‘मिराइतोवा’ में ‘मिराइ’ का अर्थ ‘भविष्य’ और ‘तोवा’ का अर्थ ‘अनंतकाल ‘ होता है।
    i) टोक्यो 2020 ने आधिकारिक खेलों के आदर्श वाक्य — United by Emotion का खुलासा किया है। आदर्श वाक्य खेल की शक्ति को विविध पृष्ठभूमि को एक साथ लाने और उनके मतभेदों से परे पहुँचने के तरीके से मनाने के लिए एक साथ लाने पर जोर देता है।
    j) जापान के अलावा किसी दूसरे देश के दर्शक टोक्यो जाकर इस खेल को नहीं देख सकते हैं।
    k) जापान इससे पहले तीन बार – 1964,1972 और 1988 में ओलंपिक का आयोजन कर चुका है।
    l) जापान ने ओलंपिक के सभी पदक पुराने इलेक्ट्रॉनिक सामानों और फोन से बनाए हैं। पदक के पीछे के हिस्से में टोक्यो ओलंपिक का लोगो लगा है, आगे स्टेडियम की तस्वीर के सामने विजय का प्रतीक माने जाने वाली ग्रीक देवी ‘नाइक’ को दर्शाया गया है।
    m) भारत के अब तक 77 से अधिक खिलाड़ियों ने ओलंपिक के लिए क्वालीफाई कर लिया है।

    Recent Articles

    - Advertisement -

    Related Stories

    Leave A Reply

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Stay on top - Get the daily news in your inbox